कोरोना पर कविता | CORONA PAR KAVITA HINDI ME

corona poem kavita hindi me ,corona virus hindi kavita download कोरोना पर कविता
 
कल रात सपने में आई कोरोना….
उसे देख जो मैं डरा
तो मुस्कुरा के बोली –मुझसे डरो ना।।
उसने कहा-” *कितनी अच्छी है तुम्हारी संस्कृति ।* 
 *न चूमते ,न हाथ मिलते* 
 *दोनों हाथ जोड़ कर  स्वागत करते ।।* वहीं करो ना
मुझसे डरो ना।
 
 *कहाँ से सीखा तुमने ??* 
 *रूम स्प्रे ,बॉडी स्प्रे ,* 
 *पहले तो तुम धूप , दीप कपूर अगरबत्ती ,लोभान जलाते* 
 वही करो ना ,
मुझसे डरो ना!!!
 
शुरू से तुम्हें सिखाया गया 
 *अच्छे से हाथ पैर धोकर घर में घुसो,* 
 *मत भूलो अपनी संस्कृति* 
वही करो ना 
मुझसे डरो ना!!
 
उसने कहा ” *सादा भोजन उच्च विचार'”* 
यही तो है तेरे संस्कार।
 *उन्हें छोड़ जंक फूड फ़ास्ट फूड के चक्कर में पड़ो ना* 
मुझसे डरो ना !!!
 
उसने कहा “” *शुरू से ही अमुक जानवरों को पाला पोसा प्यार दिया “* 
 *रक्षण की है तुम्हारी संस्कृति ,उनका भक्षण करो ना* 
मुझसे डरो ना !!
 
कल रात मेरे सपने में आई *कोरोना* 
बोली *मुझसे डरो ना* !

 41 total views,  1 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *