ghar par raho surakshit raho

इन्सान की चाहत है कि उड़ने को पर मिले,
और परिंदे सोचते हैं कि रहने को घर मिले

घर पर रहो सुरक्षित रहो

 41 total views,  1 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *