Romantic shayari- वो छा गया है कोहरे की तरह

romantic shayari

वो छा गया है कोहरे की तरह मेरे चारो तरफ
न कोई दूसरा दीखता है ,न देखने की चाहत है

wo chha gya hai kohre ki trha
mere charo traf
na koe dusra dikhta hai
na dekhne ki chahat hai

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *